Mast Shayari | मस्त शायरी | Enjoy Shayari, New Mast Shayari In Hindi 2020

Mast Shayari | मस्त शायरी | Enjoy Shayari

Mast shayari | मस्त शायरी | Enjoy Shayari
Mast shayari | मस्त शायरी | Enjoy Shayari


तुम्हारा होना इतवार के दिन जैसा है,
कुछ सूझता नहीं बस अच्छा लगता है

Mast Shayari
Mast Shayari 


नींद भी नीलाम हो जाती है बाज़ार-ए-इश्क में,
किसी को भूल कर सो जाना, आसान नहीं होता।


 New Best Mast Shayari
 New Best Mast Shayari

है कोई वकील इस जहान में,
जो हारा हुआ इश्क जीता दे मुझ को।


mast shayari in hindi font
 mast shayari in hindi font

ये भी एक तमाशा है, इश्क और मोहब्बत में दोस्त,
दिल किसी का होता है और बस किसी का चलता है।

 Mast Shayari In Hindi
 Mast Shayari In Hindi

गीली लकड़ी सा इश्क उन्होंने सुलगाया है,
ना पूरा जल पाया कभी, ना बुझ पाया है।

 Mast Shayari Attitude


Mast Shayari Attitude
Mast Shayari Attitude

रूह तक नीलाम हो जाती है इश्क के बाज़ार में,
इतना आसान नहीं होता किसी को अपना बना लेना।

 Mast Shayari Attitude
 Mast Shayari Attitude

चलते तो हैं वो साथ मेरे पर अंदाज देखिए,
जैसे की इश्क करके वो एहसान कर रहें है।

Also Read Related Shayari

1. Sorry Shayari

2. Sad Love Shayari

 रात होगी तो चाँद दुहाई देगा;
ख्वाबों में आपको वह चेहरा दिखाई देगा;
ये मोहब्बत है ज़रा सोच कर करना;
एक आंसू भी गिरा तो सुनाई देगा।

ऐ आशिक तू सोच तेरा क्या होगा;
क्योंकि हशर की परवाह मैं नहीं करता;
फनाह होना तो रिवायत है तेरी;
इश्क़ नाम है मेरा मैं नहीं मरता।+ 

Mast Shayari Dosti 


Mast Shayari Dosti
Mast Shayari Dosti 


तेरे ख़त में इश्क़ की गवाही आज भी है,
हर्फ़ धुंधले हो गए हैं मगर स्याही आज भी है।

जो रहते हैं दिल में वो जुदा नहीं होते;
कुछ एहसास लफ़्ज़ों से बयां नहीं होते;
एक हसरत है कि उनको मनाये कभी;
एक वो हैं कि कभी खफा नहीं होते। 


तू ही मिल जाये मुझे ये ही काफ़ी है;
मेरी हर साँस ने बस यही दुआ माँगी है;
जाने क्यों दिल खींचा जाता है तेरी तरफ़;
क्या तुमने भी मुझे पाने की कोई दुआ माँगी है। 

 mast shayari english
 mast shayari english

जरा देखो तो ये दरवाजे पर दस्तक किसने दी है,
अगर 'इश्क' हो तो कहना, अब दिल यहाँ नही रहता।

ज़िंदगी जीने के लिए मुझे दुआ चाहिए;
उस पर किस्मत की भी वफ़ा चाहिए;
खुदा के रहम से सब कुछ है मेरे पास;
बस प्यार करने के लिए आप जैसा कोई महबूब चाहिए। 


चुराकर दिल मेरा वो बेखबर से बैठे हैं;
मिलाते नहीं नज़र हमसे अब शर्मा कर बैठे हैं;
देख कर हमको छुपा लेते हैं मुँह आँचल में अपना;
अब घबरा रहे हैं कि वो क्या कर बैठे हैं। 

Mast Shayari for facebook in hindi 


Mast Shayari for facebook in hindi
Mast Shayari for facebook in hindi 

इज़हार-ए-इश्क करो उससे, जो हक़दार हो इसका,
बड़ी नायाब शय है ये इसे ज़ाया नहीं करते।

घुटन सी होने लगी है, इश्क़ जताते हुए,
मैं खुद से रूठ जाता हूँ, तुम्हे मनाते हुए। 

इश्क ना होने के सिर्फ दो ही तरीके थे,
या दिल ना होता या तुम ना होते। 

रिश्वत भी नहीं लेता कमबख्त जान छोड़ने की,
ऐ सनम ये तेरा इश्क मुझे बहुत ईमानदार लगता है। 

एक तो ये कातिल सर्दी, ऊपर से तेरी यादों की धुंध,
बड़ा बेहाल कर रखा है, इश्क के मौसमों ने मुझे।

Mast Shayari DP


चलते थे इस जहाँ में कभी... सीना तान के हम,
ये कम्बख्त इश्क़ क्या हुआ घुटनो पे आ गए हम।

खुदा ने जब इश्क़ बनाया होगा,
तो खुद आज़माया होगा,
हमारी तो औकात ही क्या है,
इस इश्क़ ने खुदा को भी रुलाया होगा। 

गजल-ए-उल्फत पढ़ लिया करो,
एक खुराक सुबह एक खुराक शाम,
ये वही दवा है जिससे,
बीमारे-इश्क को मिलता है तुरंत आराम। 

इश्क़ वही है जो हो एक तरफा,
इज़हार-ऐ-इश्क़ तो ख्वाहिश बन जाती है,
है अगर मोहब्बत तो आँखों में पढ़ लो,
ज़ुबान से इज़हार तो नुमाइश बन जाती है। 

वो मुझ तक आने की राह चाहता है,
लेकिन मेरी मोहब्बत का गवाह चाहता है,
खुद आते जाते मौसमो की तरह है,
और मेरे इश्क़ की इंतेहा चाहता है। 

Mast Shayari English 


दिवाना हर शख़्स को बना देता है इश्क़,
सैर जन्नत की करा देता है इश्क़,
मरीज हो अगर दिल के तो कर लो इश्क़,
क्योंकि धड़कना दिलों को सिखा देता है इश्क़।

तपिश से बच के घटाओं में बैठ जाते हैं;
गए हुए कि सदाओं में बैठ जाते हैं;
हम इर्द-गिर्द के मौसम से घबरायें;
तेरे ख्यालों की छाओं में बैठ जाते हैं। 

संगमरमर के महल में तेरी ही तस्वीर सजाऊंगा;
मेरे इस दिल में ऐ प्यार तेरे ही ख्वाब सजाऊंगा;
यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल में बस जाऊंगा;
मैं तो प्यार का हूँ प्यासा जो तेरे आगोश में मर जाऊॅंगा। 

Also Read  3. Pyar Bhari Shayari


Thanks For Reading


Post a Comment

0 Comments